Connect with us

पॉलिटिक्स

5 कारण क्यों नरेन्द्र मोदी का भारत के 100 करोड़ लोगों में से 80 करोड़ लोगों के दिलों पर छाया हुआ है मोदी का जादू

5-reasons-why-narendra-modi-is-winning-peoples-heart-in-india

ऐसे तो मोदी जी हर किसी के दिलों में छाए हुए हैं, यह हम सभी जानते हैं. देखा जाए तो मोदी जी के बहुत ज्यादा  अनुयाई है,साथ में कुछ विरोधी भी हैं. जहां वह अपने अच्छे कामों के लिए जाने जाते हैं वही उनके अच्छे काम ना होने पर उनका विरोध भी किया जाता है. इसीलिए आज हम आपको ऐसी पांच कारण बताएंगे आखिर क्यों मोदी को भारत के 100 करोड़ लोगों में से 80 करोड़ लोगों के दिलों में छाए हुए हैं.

कारण 1- मोदी के बोलने के तरीके को लेकर उनकी काफी वाहवाही होती है.  प्रधानमंत्री मोदी जी के विरोधी भी उनकी तारीफ करने पर मजबूर हो जाते हैं.

5-reasons-why-narendra-modi-is-winning-peoples-heart-in-india

कारण 2 – उन्होंने आम लोगों से जुड़ने का जो तरीका अपनाया है वह काफी लाजवाब है, आम लोगों से जुड़कर उनसे बातें करना उनके समस्याओं का हल निकालने का तरीका काफी अनोखा है.वह हमेशा लोगों की समस्या को अपनी समस्या लेकर के चलते हैं.

5-reasons-why-narendra-modi-is-winning-peoples-heart-in-india

कारण 3 – उनके व्यक्तित्व की परछाई, उन्होंने सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी उसका छाप छोड़ा है.

5-reasons-why-narendra-modi-is-winning-peoples-heart-in-india

कारण 4 – उन्होंने अपने काम से भारत को अलग ही स्थान दिलवाया है.उन्होंने भारत का नाम विदेशों में चर्चा करने पर मजबूर कर दिया है.

5-reasons-why-narendra-modi-is-winning-peoples-heart-in-india

कारण 5 – उन्होंने भारत को आगे ले जाने के लिए मुलभूत मुद्दा उठाया है जैसे  गरीबों को गैस कनेक्शन दिलवाया, मेक इन इंडिया कैंपेन के जरिए से लोगों से जुड़कर उनसे बातें की, भारत को डिजिटल भारत बनाया, भारत का संबंध विदेश में बना रहे हैं इस पर भी बहुत काम किया.

5-reasons-why-narendra-modi-is-winning-peoples-heart-in-india

मोदी जी परफेक्ट नहीं है, लेकिन जो उन्होंने अब तक तरीका अपनाया है वह उनको परफेक्ट बनाता है. इसीलिए वह दूसरे नेताओं के मुकाबले काफी प्रचलित हैं. यही कारण है जो मोदी हर किसी के दिलों में बसते हैं.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in पॉलिटिक्स