मोदी जिसको गाली देते हैं ना, प्रधानमंत्री बनते ही अटल बिहारी वापजेयी ने उनकी तस्वीरें ऑफिस में लगवाई थीं और हाथ जोड़कर पूजा की थी

Atal Bihari Vajpayee

Atal Bihari Vajpayee– राजनीति भी बहुत कमीनी और गिरी हुई चीज़ होती है यहां किस पल किसको क्या बोलना पड़ जाए यह किसी को नहीं पता होता है. आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति का किस्सा सुनाना है जा रहे हैं जिसको आज के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तो गाली देते हैं और सरेआम उनके बारे में उल्टा सीधा बोलते हुए देखे जाते हैं लेकिन वहीं दूसरी तरफ जब बीजेपी के अटल बिहारी वाजपेई प्रधानमंत्री बने थे तो उन्होंने अपने कार्यालय में उस व्यक्ति की तस्वीरें लगवाई थी.

यही नहीं वाजपेयी जी तो इस पूर्व प्रधानमंत्री को हाथ जोड़ कर उनको नमन किया था. तो आइए आज हम आपको उस व्यक्ति का किस्सा सुनाते हैं जिसके बारे में बोला जाता है कि उसने भारत की तकदीर का निर्माण किया था-

Atal Bihari Vajpayee

जवाहर लाल नेहरू की लगवाई थी तस्वीरें

जवाहरलाल नेहरु को नरेंद्र मोदी शुरू से ही काफी कुछ बोलते हुए नजर आए हैं. मोदी के अनुसार जवाहरलाल नेहरू ने कई जगह इतनी बड़ी गलतियां की हैं और इनकी गलतियां आज भारत भुगत रहा है.

यहां तक कि जब मुद्दा कश्मीर का आता है तो बीजेपी के सभी नेता एक स्वर में जवाहरलाल नेहरू को ही कोसते हुए नजर आते हैं. इनके अनुसार अगर नेहरू की नीति सही रही होती तो आज कश्मीर भारत का होता.

Atal Bihari Vajpayee

बीजेपी के कार्यालय और नरेंद्र मोदी के कार्यालय में शायद ही जवाहरलाल नेहरु की कोई तस्वीर आपको नजर आ जाए लेकिन ऐसा ही एक किस्सा इतिहास की किताबों में दर्ज है कि जब अटल बिहारी वाजपेई प्रधानमंत्री बने थे तो उन्होंने अपने कार्यालय में जवाहरलाल नेहरू की कई सारी तस्वीरें लगवाई थी.

Atal Bihari Vajpayee

उन्होंने प्रधानमंत्री पद का कार्यभार संभालते हुए ही अगले दिन अपने कार्यालय में जाकर देखा था कि वहां पर जवाहरलाल नेहरु की कोई भी तस्वीर नहीं थी. जवाहरलाल नेहरु अटल बिहारी वाजपेई के लिए भी विपक्षी नेता थे लेकिन उन्होंने अपने पद की गरिमा को बनाए रखने के लिए जवाहरलाल नेहरु की तस्वीरों को कार्यालय में लगाने का आदेश दिया था.

Atal Bihari Vajpayee

निश्चित रूप से अटल बिहारी वाजपेई जवाहरलाल नेहरू की कई सारी नीतियों को पसंद नहीं किया करते थे. बेशक दोनों के बीच में और कांग्रेस और भाजपा के बीच में संबंध मधुर ना रहे हो लेकिन वाजपेई जी ने व्यक्तिगत रूप से यह काम करके निश्चित रूप से एक बहुत बड़ा और महान काम किया.

इसीलिए बोला जाता है कि अटल बिहारी वाजपेई जैसा कोई नेता या व्यक्ति शायद ही अब बीजेपी में नजर आए. मंच से इस तरह से किसी व्यक्ति पर निजी हमला भी वाजपेयी नहीं किया करते थे.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*