नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी- तीसरा विश्व युद्ध भारत जीतेगा, चीन करेगा इसकी शुरुआत और बुरी तरह से हिन्दुस्तान से हारेगा

नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी

नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी– दुनिया दो विश्वयुद्ध को देख चुकी हैं. इन दोनों विश्वयुद्धों में जो परिणाम आए उसी कारण ही तीसरा विश्वयुद्ध होते होते बच गया. विश्व में आज भी ऐसी कई जगह हैं जो पहले और दूसरे विश्वयुद्ध की मार को अबतक भुला नहीं पाए हैं लेकिन इसके बावजूद विश्व फिर से तीसरे विश्वयुद्ध की ओर बढ़ जहां जहां अमेरिका और रुस पहुंचकर पछताते रहे.

साल 1945 से चले वर्चस्व की होड़ साल 1991 में सोवियत संध के विघटन के बाद ही रुका. अगर सोवियत के टूटा होता तो शायद हम तीसरा विश्वयुद्ध देख चुके होते. कई मौके पर दोनों ही खेमा युद्ध के अंतिम चरण पर भी पहुंचकर युद्ध नहीं कर पाए क्योंकि वो पहले दो युद्धों के परिणाम को देख चुके थे.नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी

नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी

विश्व में जो हालात इस वक्त दिखाई दे रहा हैं उसके बारे में महान नास्त्रेदमस आज से सैकड़ों साल पहले ही इसकी भविष्यवाणी कर चुके हैं. उन्होंने अबतक कुल 950 भविष्यवाणी की हैं जिसमें से ज्यादातर सत्य साबित हुई हैं.

उन्होंने तीसरे विश्वयुद्ध के संबंध में था कि वो मध्य एशिया के कारण ही तीसरा विश्वयुद्ध होगा. मध्य एशिया पर नजर डाले तो वहां लगातार तेल की कुएं पर कब्जा करने के लिए विश्व के ताकतवर देश जोर आजमाइश करते आए हैं. वहीं दूसरा उन्होंने जो कारण दिया उसे आईएसआईएस के रुप में देखा जा रहा हैं. उन्होंने कहा था कि इक्कीसवीं शताब्दी में एक धार्मिक संगठन उत्पन्न होगा जो खूब तबाही मचाएगा जिसे खत्म करने के लिए विश्व के सभी ताकतवर देशों को एक होना पड़ेगा.

नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी

वहीं उन्होंने जो भविष्यवाणी की उसमें चीन को तीसरे विश्वयुद्ध का कारण माना. उनकी भविष्यवाणी के अनुसार चीन अरब देशों के अंतिम शासक के साथ मिलकर तीसरे विश्वयुद्ध की शुरुआत करेगा.

नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी

उन्होंने तीसरे विश्वयुद्ध के लिए साल 2013-2025 के बीच के समय को बताया हैं. इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि भारत में एक ऐसा नेता पैदा होगा जो इस युद्ध के खत्म होने का कारण बनेगा.

नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी

नरेंद्र मोदी को इस नेता के तौर पर देखा जा सकता हैं. क्योंकि यह साल 2013-25 के बीच में ही एक ताकतवर नेता के रुप में उभरे. लेकिन नास्त्रेदमस ने उसका नाम कुछ और बताया हैं. साथ यह भी बताया कि उसका जन्म उस स्थान पर होगा जहां तीन समुंद्र आकर मिलते हैं. नास्त्रेदमस ने यह भी कहा कि यह तेजस्वी नेता अपनी इस्ट नीति के कारण चीन को हराकर विश्व में शांति स्थापित करेगा.

नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी कहां तक सही हैं यह तो जल्दी ही पता चल जाएगा क्योकि साल 2025 दूर नहीं लेकिन यह तो हकीकत हैं कि जिस तरह से विश्व की महाशक्तियां मध्य एशिया में शक्ति प्रदर्शन कर रही हैं और जिस तरह से विश्व धर्म की लड़ाई को आगे बढ़ा रहा हैं उससे तीसरे विश्व युद्ध के संकेत साफ नजर आ रहे हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*