Connect with us

रहस्य

दुनिया का एकमात्र ऐसा आदमी जिसको 68 साल तक आई हिचकी

दुनिया का एकमात्र ऐसा आदमी जिसे 68 साल तक आई हिचकी

माना जाता है कि जब हमें किसी की याद आती है या फिर कोई हमें याद कर रहा होता है तो हमें हिचकी आने लगती है। हिचकियां हमें बताती है कि किसी अपने ने हमें याद किया लेकिन जब यह हिचकियां ज्यादा आने लगती है तो हमारे लिए मुसीबत तक बन जाती हैं।

चलिए तो बता देते हैं हिचकी एक आदमी के लिए कैसे बन गई बड़ी मुसीबत। इतनी बड़ी कि जब हिचकियां आनी शुरू हुई तो 1 या 2 दिन नहीं बल्कि 1 या 2  साल भी नहीं। पूरे 68 साल तक आती रही। यह जानकर आप चकित रहे गए होंगे कि 68 साल तक हिचकी किसी को कैसे आ सकती हैं लेकिन हम आपको बता दें कि यह कोई मनगढ़ंत कहानी नहीं बल्कि सच्चाई है। 

Charles-Osborne

चार्ल्स ओसबर्न | दुनिया का एकमात्र ऐसा आदमी जिसे 68 साल तक आई हिचकी


पूरे 68 साल तक हिचकी लेने वाले शख्स का नाम चार्ल्स ओसबर्न है। चार्ल्स ओसबर्न अमेरिका के रहने वाले हैं। इन्हें 1922 से हिचकी आने शुरू हुई लेकिन इन्हें कहां पता था कि ये हिचकियां ताउम्र चलती रहेंगी। 1922  से शुरू हुई हिचकियां 1990 में जाकर खत्म हुई थी।

जब इन्होंने हिचकी लेना शुरू किया तो शुरुआत में ओसबोर्न की हिचकिचाहट 40 गुना प्रति मिनट की दर की थी और जिसके बाद यह धीरे-धीरे लगभग 20 हिचकिचाहट तक धीमा हो गया। 

हिचकियों के बीच इन्हें खाना खाने में बड़ी मुसीबत का सामना करना पड़ता था क्योंकि हिचकियां के बीच खाना अंदर जा ही नहीं पता था। इसलिए इन्होंने खाने को पीसकर खाना शुरू किया। अपना पूरा जीवन काल ऐसी ही हिचकियों के साथ बिता दिया। इलाज के बावजूद भी हिचकियों ने इनका पीछा नहीं छोड़ा।

अपने पूरे जीवन काल में इन्होंने 30 मिलियन से अधिक हिचकी ली। इतनी ज्यादा हिचकी लेने वाले ओसबोर्न अकेले इंसान थे और जिन्होंने हिचकी  के साथ ही अपना जीवन बिता दिया। 1991 ओसबोर्न की मृत्यु हो गई थी। साथ ही आपको बता दें कि इनकी हिचकी 1990  में खुद ही बंद हो गई। जिसके बाद 1 साल में ही इनकी मृत्यु हो गई थी।

इस तरह हिचकी किसी के लिए मुसीबत का कारण बन गई और 68 साल तक उसी के पीछे पड़ी रही। जो कोई छोटी-मोटी उम्र नहीं थी। अब भला इतना किसने याद किया कि हिचकी सालों-साल आती रही। हिचकी के कारण चार्ल्स ओसबोर्न दुनिया में मशहूर हो गए थे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in रहस्य