धरती पर ही छोड़ गये हैं एलियंस अपने बच्चे-धरती पर मिले 10 फीट लम्बे और 600 किलो वजनी रहस्यमयी एलियंस के निशान

बिगफुट का रहस्य

बिगफुट का रहस्य- आप अगर पश्चिम के वैज्ञानिकों की ही रिसर्च पर विश्वास करते हैं तो आज हम आपके लिए एक ऐसी ही रिसर्च को सामने लाये हैं. आज हम आपको उन रहस्मयी जीवो की कहानी बताने वाले हैं जिनको एलियंस के बच्चे के नाम से शुरू में पुकारा गया था. आप यकीन मानें कि यह कहानी झूठी बिलकुल नहीं है.

साल 1935 में सबसे पहले बिगफुट नाम के जीव को धरती पर देखा गया था. ऐसा भी बोल सकते हैं कि इसका नाम तो किसी को मालूम नहीं था लेकिन जिस तरह की रिसर्च की गयी, उसके बाद इन दैत्याकार राक्षसों का नाम बिगफुट रख दिया गया था. वैसे एशिया और भारत में इनको येती के नाम से पुकारा गया. भारत में बोला गया कि यह इंसानों के पूर्वज थे.

बिगफुट का रहस्य

जबकि पश्चमी वैज्ञानिकों ने इनको बिगफुट नाम दिया है. तो आइये आज हम आपको उस रिसर्च के बारें में बताते हैं जिसमें बोला गया है कि यह 10 फीट लम्बे और 600 किलो के दैत्य एलियन के बच्चे हैं- बिगफुट का रहस्य

बिगफुट का रहस्य

सबसे पहले येती की खोपड़ी धरती पर पाई गयी थी. प्राचीन एलियन शोधकर्ताओं ने जब इस खोपड़ी की जांच की तो बताया यह एलियन के बच्चे हैं. एलियन ने अपनी एक नई प्रजाति है और इसके शरीर पर अधिक बाल हैं और यह अपने एलियन पूर्वजों से ज्यादा सुन्दर है. एलियन ने धरती पर रहने के लिए इस प्रजाति को जन्म दिया था.

बिगफुट का रहस्य

इसके बाद पहली बार इस दैत्य के पैरों के निशान एवरेस्ट पर साल 1953 में देखे गये थे. एरिन नाम के एक व्यक्ति को यह पैरों के निशान दिखे थे. मतलब आप यह देखिये की समुद्रतल से 20 हजार फीट की ऊंचाई पर जीव पाए गये थे. इन पैरों से निशान से बताया गया कि यह दैत्य जीव इन्सान से पहले धरती पर आये हैं.

बिगफुट का रहस्य

इनके वजन की बात करें तो इनका वजन 600 किलो के आसपास बताया गया. वहीँ इनकी लम्बाई 10 फीट के करीब जांची गयी थी. प्राचीन कहानियों में भी इनका जिक्र है. इनको एलियंस की सबसे अच्छी प्रजाति बताई गयी है. धरती पर रहने के लिए इनको इस तरह का बनाया गया है.

बिगफुट का रहस्य

यह जीव धरती से इन्सान खत्म होने का इन्तजार कर रहे हैं. ऐसा भी बताया गया है कि जब धरती पर एलियंस हमला करेंगे तो यह येती धरती से ही इंसानों पर हमला करेंगे. बिगफुट के बारें में अगर आपके पास किसी तरह की नई जानकारी हो तो आप हमें वह कमेन्ट बॉक्स के जरिये बता सकते हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*