सावधान लड़के और लडकियां- सेक्स संबंधों के कारण नहीं बल्कि इस गलती के चलते भारत में अब तेजी से फैल रहा है एड्स

भारत में अब तेजी से फैल रहा है एड्स

एड्स एक जानलेवा बीमारी है. इसका भारत या विश्व में फैलना सबके लिए खतरनाक साबित हो सकता है. यह बीमारी किसी व्यक्ति को एक बार हो जाए तो उसकी मृत्यु तय है.

अगर हम सिर्फ भारत की बात करें तो तकरीबन 80000 से ज्यादा लोगों की मृत्यु एड्स के कारण होती है. आमतौर पर लोगों के मन में यही धारणा होती है कि एड्स रोगी के साथ  असुरक्षित यौन संबंध, उठने-बैठने,  हाथ मिलाने, खाना खाने आदि से यह रोग फैलता है.

भारत में अब तेजी से फैल रहा है एड्स

लेकिन एक बहुत ही चौंका देने वाली बात सामने आई है कि एड्स, ड्रग्स लेने से फैलता है. भारत में देखा जाए तो अमूमन पंजाब में सबसे ज्यादा संख्या है जहां लोग ड्रग्स लेते हैं, लेकिन अब चंडीगढ़ स्टेट के लिए भी यह मुसीबत बनते नजर आ रहा है.

भारत में अब तेजी से फैल रहा है एड्स

दरअसल चंडीगढ़ स्टेट एड्स कंट्रोल सोसाइटी ने पैरों तले जमीन खिसकने वाला सच सामने लाया है. उनके रिपोर्ट में यह पाया गया है कि एचआईवी असुरक्षित यौन संबंधों के कारण नहीं बल्कि ड्रग्स के कारण चंडीगढ़ शहर में फ़ैल रहा है.

भारत में अब तेजी से फैल रहा है एड्स

61 प्रतिशत पुरुष और 34 प्रतिशत महिलाएं  एचआईवी से ग्रस्त हैं. जिनमें 60 प्रतिशत लोगों को एचआईवी इन्फेक्शन एक ही सिरिंज से ड्रग्स लेने के वजह होता है.

भारत में अब तेजी से फैल रहा है एड्स

चंडीगढ़ में हुए ब्लड टेस्ट के दौरान यह देखा गया कि एचआईवी पीड़ित ज्यादातर हरियाणा के निवासी हैं. जब चंडीगढ़ में आईसीटीसी सेंटर में कुल 1,19,562  लोगों का टेस्ट किया गया तो इनमें चंडीगढ़ के अलावा पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, जम्मू कश्मीर के लोग भी शामिल थे.

जांच में कुल 701 एचआइवी पॉजिटिव की संख्या मिली है, जिसमें चंडीगढ़ के मूल निवासी 152 लोग थे. वैसे तो चंडीगढ़ स्टेट एड्स कंट्रोल सोसाइटी एड्स को कम करने के लिए काफी मशक्कत कर रही है जिसका परिणाम यह हुआ कि पहले के मुकाबले अब चंडीगढ़ में एड्स पीड़ित का ग्राफ घटता हुआ मिला.

देखा जाए तो किसी भी बीमारी से बचने के लिए एकमात्र उपाय सावधानी है. इसलिए बेहतर होगा कि आप हर तरह की रोग से बचने के लिए सावधान रहें और अपने स्वास्थ्य में ध्यान दें.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*