मैं उससे प्यार करता था लेकिन उसने धर्म नहीं बदला तो मैंने उसको मार दिया- क़त्ल की कहानी पढ़कर आपकी रूह काँप जाएगी

झारखण्ड मर्डर कहानी

झारखण्ड मर्डर कहानी- प्यार में लोग क्या क्या कर जाते हैं लेकिन क्या उसे भी प्यार कहा जाएगा जिसमें लोग प्यार को ही मार देते हैं. समाज बहुत बदल चुका हैं. अब लोग प्यार के नाम पर जो हरकते करते हैं उसे क्या नाम दिया जाए.

हाल ही में झारखंड के जमशेदपुर में एक ऐसी घटना हुई जिसपर प्यार भी शर्मशार होकर मर जाए. हाल ही में ट्रॉली बैग में एक लड़की की लाश मिलने से शहर सदमे में था लेकिन उसके बाद जो खुलासे हुए उससे लोग और ज्यादा सदमे में है. झारखण्ड मर्डर कहानी-

झारखण्ड मर्डर कहानी

ट्रॉलीबैग में मिली लाश एक एक ऑपरेशन मैनेजर चयनिका कुमारी की थी जिसे उससे ही ब्वायफ्रैंड में मार कर फेंक दिया. चयनिका का प्रेमी मीर्जा रफीकुल खुद एक अस्पताल में डॉक्टर हैं.

मार कर फेंकने के बाद खुद पुलिस को कॉल कर डॉक्टर ने उसे मारने की बात कबूल की. अपनी गर्लफ्रैंड को मारने के लिए उसने जो कारण बताया वह बहुत चौकाने वाला था. उसकी माने तो उसका संबंध चयनिका से पिछले तीन सालों से चल रहा था. बहुत समय से शादी के लिए कह रहा था जिसे चयनिका टाल रही थी. वह उस पर पिछले तीन सालों में लाखों रुपये खर्च कर चुका था. अंतः में जब चयनिका ने उसे शादी के लिए मना कर दिया तो उसने मार दिया.

झारखण्ड मर्डर कहानी

मिर्जा का कहना हैं कि ‘मैं जब भी निकाह की बात करता, वह टाल देती. मैंने गुस्से में आकर उसे मार डाला.‘

दरअसल दोनों का धर्म अलग अलग है. वहीं दूसरी तरफ मृतक के पिता ने डॉक्टर पर धर्म परिवर्तन के लिए दबाव डालने का आरोप लगाया हैं. लड़की के पिता का कहना हैं कि बेटी का ब्वायफ्रैंड उसपर धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बना रहा था लेकिन जब वह तैयार नहीं हुई तो उसने उसे मार दिया.

झारखण्ड मर्डर कहानी

दोनों की पहली मुलाकात कोलकत्ता के आईएलएस में हुई थी जहां दोनों साथ काम करते थे. वहीं दोनों को एक दूसरे से प्यार हो गया. बाद में चयनिका ने जमशेदपुर में मेडिट्रिना हॉस्पीटल ज्वाईन कर दिया और मिर्जा ने बीएम बिड़ला अस्पताल.

यहां से मिर्जा और चयनिका के बीच की दूरी बढ़ती गई और इसी दूरी ने चयनिका की जान ले ली. फिलहाल मिर्जा पुलिस की हिरासत में है.

 

यह भी जरुर पढ़ें- भारत के इस मुख्यमंत्री ने अफसरों से बोला कि जहाज से जाओ और 1600 किमी दूर से मेरा रात वाला पायजामा ले आओ

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*