5 पांडवों की इकलौती बहन का पति द्रोपदी के साथ करना चाहता था दुष्कर्म, बना लिया था द्रोपदी का मुंह काला करने का प्लान

story-of-dushala-jayadratha-and-draupadi-in-mahabharat

महाभारत की कई कहानियां ऐसी हैं जिसके बारे में आपने आज तक नहीं सुना होगा। महाभारत पूरा ही इस तरीके से बना हुआ है कि इसमें पाप और पुण्य दोनों को जगह दी गई है.

एक तरफ से दिखाया गया है कि पाप करने वाले लोग भी इस दुनिया में होते हैं तो वहीं ही यह भी साबित किया है कि अच्छे कर्म करने वाले लोगों का साथ धर्म जरूर देता है.

हम आपको महाभारत की एक ऐसी कहानी बताने वाले हैं जो शायद आपने नहीं पढ़ी होगी. पांडवों की बहन के पति ने जब द्रोपदी का दुष्कर्म करने के लिए उसका अपहरण कर लिया था-

पाडंवों की बहन का नाम दुशाला था

story-of-dushala-jayadratha-and-draupadi-in-mahabharat

पांडवों की एक बहन होती है और उस बहन का पति द्रौपदी पर गलत नजर रखने लगा था. आइये आपको बताते हैं कि किस तरीके से पांडवों की बहन के पति ने द्रोपदी के लिए बहुत ही गंदा एक प्लान बनाया था.

वैसे कहने को तो दुशाला कौरवों की बहन थी लेकिन पांडव भी इसको अपनी बहन बताते थे. दुशाला को जितना प्यार पांडव कर रहे थे तो वहीँ कौरव भी बहुत प्यार करते थे.

कहीं ना कहीं पांडव दुशाला को अधिक प्यार करते थे. दुशाला का जीवन कई बार उठा पटक भरा रहा है. दुशाला की शादी जयद्रथ से हुई थी और जयद्रथ एक शूरवीर योद्धा था. जिसका व्यक्तित्व भारत में उस समय काफी दूर-दूर तक फैलता जा रहा था.

द्रोपदी का कर लिया था अपहरण

story-of-dushala-jayadratha-and-draupadi-in-mahabharat

जयद्रथ के व्यक्तित्व की खासियत थी कि वह एक तरफ तो काफी दान पुण्य करता था लेकिन महिलाओं के ऊपर उसकी फांसी गंदी निगाह रहती थी. कहानी महाभारत में लिखी हुई है कि एक बार जयद्रथ ने द्रोपदी का अपहरण कर लिया था और वह द्रोपदी के साथ दुष्कर्म करना चाहता था.

यह जब खबर पांडवों को पता लगी तो वह है काफी क्रोधित हुए थे और द्रोपदी की जान बचाने के लिए युद्ध लड़ने निकाल लिए थे. अब इस युद्ध में में जयद्रथ की हार हुई थी और जब पांडव जयद्रथ का गला काटने वाले थे, तभी द्रोपदी ने पांडवों को रोक लिया था.

story-of-dushala-jayadratha-and-draupadi-in-mahabharat

क्योंकि अगर जयद्रथ मर जाता तो दुशाला भी विधवा हो जाती। इसी समय अर्जुन ने जयद्रथ को मारा तो नहीं था किंतु उस को गंजा कर दिया था.

महाभारत के युद्ध में जयद्रथ कौरवों के साथ हो गया था ताकि वह पांडवों से बदला ले सके और इसी  युद्ध में जयद्रथ का गला अर्जुन ने अभिमन्यु के युद्ध के बाद लिया था.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*