1725 ई. में एक भिखारी आया था इंग्लैंड से भारत और जब वो वापिस लौटकर लंदन गया तो दुनिया का सबसे अमीर आदमी बन गया था

ब्रिटिश गवर्नर रोबर्ट क्लाइव

ब्रिटिश गवर्नर रोबर्ट क्लाइव- एक समय था जब हमें हमारे देश को दुनिया सोने की चिड़ियां कहती थी. यह सिर्फ कहना ही मात्र नहीं था बल्कि हमारे देश में बेहिसाब धन दौलत थी. इसी से अंदाजा लगाया जा सकता हैं कि सैकड़ों साल तक हमें विदेशी मुस्लिम शासकों ने लुटा फिर बाद में लगभग 200 सालों तक अंग्रेजों ने लूटा.

आज हम आपको ऐसे एक व्यक्ति के बारे में बता रहे हैं जो जब भारत आया था तो एक मामूली नौकर था लेकिन जब वापस गया तो उसके आगे दुनिया के सबसे अमीर भी कुछ नहीं थे. उसने सिर्फ 8 सालों में भारत को इतना लूटा.

ब्रिटिश गवर्नर रोबर्ट क्लाइव एक ऐसा ब्रिटिश नौकर हैं जो भारत में आने के वक्त सिर्फ एक सामान्य कलर्क था लेकिन उसने इतनी तेजी से धन इकट्ठा किया कि खुद ब्रिटिश सरकार को उसके खिलाफ कार्यवाही करते हुए उसे भारत से वापस बुलाना पड़ा. ब्रिटिश गवर्नर रोबर्ट क्लाइव

ब्रिटिश गवर्नर रोबर्ट क्लाइव

खुद इस्ट इंडिया कम्पनी भी इस लूट को हजम नहीं कर पाई-

शिक्षा के क्षेत्र में अच्छा प्रयास करने वाले ब्रिटिश अधिकारी लार्ड मैकाले ने अपनी एक रिपोर्ट में लिखा कि क्लाइव के पास पैसे की कमी नहीं थी. बंगाल की तिजोरी क्लाइव के हाथ में तो था ही साथ ही उनके खुद के पास सोने के सिक्कों के ढ़ेर लगे हुए थे जिसे उसे लूट के दौरान इकट्ठा किया था.

ब्रिटिश गवर्नर रोबर्ट क्लाइव

क्लाइव के खुद को अधिक समृद्ध करने की खबर जब इस्ट इंडिया कम्पनी को जब मिली तो उन्होंने कार्यवाही करते हुए उसे वापस इंग्लैंड बुला लिया. लेकिन तबतक तो क्लाइव बहुत ज्यादा धन भारत से ले जा चुका था. उसे सिर्फ ब्याज के रुप में उस वक्त 40 हजार पौंड मिल रहा था.

ब्रिटिश गवर्नर रोबर्ट क्लाइव

क्या लिखा हैं इतिहासकारों ने-

उस समय की इस बड़ी लूट का जिक्र कई जगहों पर किया गया हैं. प्रो. केएल केडिया ने अपनी पुस्तक भारत के विकास की भावी दिशा में इस लूट का जिक्र करते हुए कहां कि अंग्रेजों ने जब बंगाल में कदम रखा तो हर तरीके से लूटा. उन्होंने सत्ता के एवज में भी नवाबों से पैसे हासिल किए.

ब्रिटिश गवर्नर रोबर्ट क्लाइव

गद्दारों के बिना नहीं था कुछ मुमकिन-

प्लासी के युद्ध के बाद मीर जाफर को सत्ता की एवज में अग्रेजों को 12 लाख 38 हजार 575 पौंड अंग्रेजों को देना पड़ा वहीं बाद में फिर से दूसरी बार नवाब बनने के लिए उन्हें पांच लाख एक सौ पैंसठ पौंड देना पड़ा. इतना ही नहीं जाफर ने सत्ता पर बैठते ही अंग्रेजों को एक ऐसी जगह राजस्व वसूलने के लिए दे दी जहां से सालाना 27 हजार पौंड राजस्व वसूला जाता था.

8 साल और लगभग 6 अरब पौंड. इससे बड़ी लूट इतिहास में शायद ही कोई होगी. इस लूट के कारण हैं एक क्लर्क लन्दन के राजा औ रानी से भी बड़ा धनवान बन गया था.

One Comment

  1. Very good information. Britishers looted India nd still looting through various brands

  2. Loading...

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*