स्वामी असीमानंद मक्का मस्जिद ब्लास्ट में हुए इज्जत के साथ बरी, तो फैन्स का सोशल मीडिया पर रिएक्शन देख हैरान हो जायेंगे आप

Swami Aseemanand Case

Swami Aseemanand Case- मक्का मस्जिद ब्लास्ट मामले में मुख्य आरोपी स्वामी असीमानंद सहित पांच आरोपियों को आज कोर्ट ने बरी कर दिया है. हिंदुओं के एक तबके में इस खबर के बाद जश्न का माहौल बना हुआ है.

हैदराबाद की एनआईए अदालत के इस फैसले के बाद अब स्वामी असीमानंद बरी कर दिए गये हैं. हिन्दुओं के एक खास तबके का ऐसा मानना है कि जिस तरीके से एक सरकार ने हिंदुओं को मक्का मस्जिद ब्लास्ट के आरोप में फंसाया था तो आज उसका सच सामने आ गया है. Swami Aseemanand Case

Swami Aseemanand Case

खास तरीके से हिंदुओं को भगवा आतंकवाद से जोड़ा जा रहा था लेकिन आज अदालत ने साफ कर दिया है कि हिंदू आतंकवादी नहीं है और ना ही वह इस तरह की गतिविधियों में मक्का मस्जिद ब्लास्ट में शामिल हुए थे.

आपको बता दें कि हैदराबाद की विशेष एनआईए कोर्ट ने यह फैसला सुनाया है कि कोर्ट में आरोपियों के खिलाफ कोई ठोस सबूत पेश नहीं हो पाए हैं जिसकी वजह से आरोपियों को बरी किया जा रहा है.

Swami Aseemanand Case

बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने बोला है कि भाजपा अदालत के फैसले पर सवाल नहीं उठाती. वह कभी भी भारतीय न्यायपालिका के काम पर टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं.

एनआइए की विशेष अदालत ने सभी पांच आरोपी स्वामी असीमानंद उर्फ नबा कुमार सरकार, भारत मोहनलाल रत्नेश्वर उर्फ भारत भाई, देवेंद्र गुप्ता, लोकेश शर्मा और राजेंद्र चौधरी को कोर्ट ने बरी करने का फैसला सुनाया है. इन सभी को मक्का मस्जिद विस्फोट मामले में गिरफ्तार किया गया था और उनपर ट्रायल सालों से चलाया जा रहा था.

Swami Aseemanand Case

वहीँ लोगों में अदालत के इस फैसले को लेकर अच्छी खासी खुशी बनी हुई है. जिस तरीके से अदालत ने आज इन पांचों आरोपियों को मक्का मस्जिद ब्लास्ट से बरी किया है तो उसके बाद से सोशल मीडिया पर तरह तरह की टिप्पणियां की जा रही हैं.

Swami Aseemanand Case

सभी अदालत के फैसले को सही बता रहे हैं और जश्न मनाते हुए दिख रहे हैं. सभी का कहना है कि हिंदू कभी भी इस तरीके की गतिविधियों में संलग्न नहीं रहता है. वह शांति से अपने देश और अपने समाज में रहना चाहता है लेकिन कुछ खास लोगों ने हिंदुओं को बदनाम करने की साजिश रची थी जिसका खुलासा सभी के सामने हो गया है.

निश्चित रूप से लगातार हिंदू आतंकवाद की चर्चा भारत के बाहर भी की जा रही थी लेकिन अदालत ने साफ कर दिया है कि मक्का मस्जिद ब्लास्ट में हिंदुओं का कोई भी हाथ नहीं था. इस पूरे मामले में आपका क्या कहना है आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं आपके कमेंट का हमें इंतजार रहेगा.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*