Connect with us

स्पेशल

जानिये भूकंप क्यों आता है और कैसे आता है earthquake in india

भूकंप क्यों आते हैं (earthquake in india)– खुशियां और गम जिंदगी में बराबर चलते हैं। जिससे की जिंदगी में खुशियां और गम का स्तर बराबर बना रहें। जीवन में गम भी कई तरह के होते हैं। कुछ ऐसे होते हैं, जो इंसान को इंसान से मिलते हैं। तो कुछ ऐसे होते हैं, जो इंसान को भगवान से मिलते हैं। उन्हीं गम को प्राकृतिक आपदा कहा गया है। जैसे हमें जीवन में खुशी और गम, दर्द और प्यार मिलता है वैसे ही प्रकृति भी खुशी के रूप में हमें हवा, पानी, मिट्टी, पेड़-पौधे आदि चीजें देती हैं। जब इन्हीं चीजों से हमें गम मिलता है तो वहीं प्राकृतिक आपदा बन जाती है।

आज हम आपको एक प्राकृतिक आपदा के बारे में बताते हैं, जिसका नाम है भूकंप…. वैसे तो आपको पता होगा कि प्राकृतिक आपदाएं होती क्या है। लेकिन बहुत कम लोगों को पता होता है कि यह आती क्यों है, इसलिए हम आपको भूकंप के बारे में बता रहे हैं कि किस कारण से भूकंप आता है और कितना यह नुकसानदायक होता है।

जब भूकंप आता है तो पृथ्वी अचानक से हिलने लगती है… और तेजी से कंपन होने लगता है। जिसमें इतनी क्षति हो जाती है कि जीवन संकट में आ जाता है।

पृथ्वी के अंदर 7 प्लेट्स होती हैं। जो लगातार धीरे-धीरे घूमती रहती हैं, यह प्लेटें हर साल केवल 4 से 5 मिलीमीटर तक ही घूमती हैं और एक-दूसरे के पास आ जाती है तो कुछ दूर भी चली जाती है। ऐसे में कभी-कभी ये प्लेटें आपस में मिलकर टकरा जाती हैं और इन प्लेटों के टकराने से ऐसी ऊर्जा निकलती है। जिसका असर बाहरी सतह पर होता है… और भूकंप आ जाता हैं।

earthquake-picture

धरती हिलने लगती है… इसका असर जनजीवन पर पड़ता है…

लेकिन भूंकप आने की गति पर निर्भर करता है। भुकंप कितना भयानक है और इसकी गति को रिक्टर स्केल में मापा जाता है। यदि 7 या उससे ज्यादा तीव्रता का भूकंप आए तो सभी आसपास के 40 किलोमीटर के दायरे को झटका लग जाता है।

विनाशकारी भूकंप (earthquake)

आपको जानकर आश्चर्य होगा नेशनल अर्थक्वेक इंफॉर्मेशन सेंटर के अनुसार बताया गया कि हर साल करीब 20,000 भूकंप आते हैं। लेकिन इनमें से सभी का पता नहीं चल पाता क्योंकि करीबन 100 भूकंप ऐसे होते हैं जो नुकसान पहुंचाते हैं और भारत में ऐसा ही नुकसानदायक भूकंप गुजरात मैं आया था। जिसने इतनी हानि पहुंचायीं थी कि हर किसी को वो कहर आज भी याद है। सन् 1950 में असम में भी ऐसा भूकंप आया था जो सबसे तेज भूकंप था। इस भूकंप में 11,538 लोगों की जान चली गई थी।

तेज भूकंप में घर इमारतें सब कुछ गिर जाते हैं। यहां तक की बिलडिंगस्, स्कूल और पुरानी इमारतें भी टूट जाती हैं… इसलिए भूकंप एक ऐसी प्राकृतिक आपदा है। जो ऐसा झटका दे देता है कि  जिसकी भरपाई सालों साल नहीं हो पाती… इसलिए वैज्ञानिक रिसर्च करते रहते हैं ताकि कहीं पर भी भूंकप आने की आशंका होती है तो वहां पर पहले से ही सूचना दी जा सकें। और मानव जीवन की रक्षा हो सके। इस तरह से यह वह गम है जो इंसानों को प्राकृतिक चोट देता है। जिसके जख्म भरने बड़े भारी पड़ते हैं

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in स्पेशल