कांग्रेस में राहुल-सोनिया गाँधी की तानाशाही आई सामने, तो सोनिया गाँधी अब देंगी अपना इस्तीफा?

राहुल और सोनिया गाँधी का भविष्य

राहुल और सोनिया गाँधी का भविष्य- भारतीय राजनीति का अखाड़ा इस समय जनता का खूब मनोरंजन कर रहा है. जहाँ एक तरफ बीजेपी में भी बेटे की लड़ाई जोर-शोर से लड़ी जा  रही हैं वहीँ अब बेटे की लड़ाई ही कांग्रेस में शुरू हो गयी है. वैसे पिछले कुछ समय से राहुल गाँधी काफी एक्टिव नजर आ रहे हैं और लगातार गुजरात-हिमाचल के अदंर प्रचार कर रहे हैं लेकिन कांग्रेस पार्टी के कुछ सीनियर नेताओं को ऐसा लगता है कि अभी भी मोदी से चुनाव जीतना संभव नहीं हो पायेगा.

दरअसल एएनआई एजेंसी के हवाले से आई खबर में बताया गया है कि कांग्रेस के बड़े नेता मणिशंकर अय्यर ने खुलेआम यह बोला है कि ”दो लोग ही कांग्रेस के अगले अध्यक्ष हो सकते हैं. एक मां, एक बेटा. क्योंकि राहुल ने तो कह दिया खुलेआम कि मैं चुनाव लड़ने को तैयार हूं लेकिन चुनाव लड़ने के लिए विरोधी की जरूरत होती है.”-  राहुल और सोनिया गाँधी का भविष्य 

राहुल और सोनिया गाँधी का भविष्य

तो अब ऐसे में कांग्रेस के इतने बड़े सीनियर नेता का यह ब्यान कि माँ-बेटा ही पार्टी के अध्यक्ष हो सकते हैं वह साफ़ संकेत हैं कि कांग्रेस में तानाशाही को खत्म करने का अब समय आ गया है. वैसे यह तानाशाह शब्द खुद अय्यर जी ने टीओ इस्तेमाल नहीं किया है किन्तु जिस तरह का ब्यान यह है उसका सीधा का अर्थ तानाशाही भी है. अगर पार्टी अध्यक्ष के पद पर माँ-बेटा ही रह सकते हैं तो इसका सीधा का अर्थ है कि यह तानाशाही ही है.

राहुल और सोनिया गाँधी का भविष्य

  • अय्यर ने साफ बोला है कि अभी चुनाव जीतना है मुश्किल

वहीँ दूसरी तरफ मणिशंकर अय्यर ने अपने ब्यान में यह भी बोला है कि चुनाव लड़ने के लिए विरोधियों की जरूरत होती है. इसका सही अर्थ यह होना चाहिए कि कांग्रेस अभी बीजेपी के सामने कहीं है ही नहीं. बेशक अभी हल्ला किया जा रहा है कि कांग्रेस चुनाव में वापसी करेगी लेकिन अय्यर का यह ब्यान साफ-साफ़ बता रहा है कि कांग्रेस विरोधी है ही नहीं.

 

लेकिन मणिशंकर अय्यर के इस ब्यान को बेशक कांग्रेस पार्टी में तवज्जो नहीं दी जाएगी किन्तु यह सच है कि अब कांग्रेस में भी बगावत के शुरू तेज होने की पूरी उम्मीद है.

 

यह भी जरुर पढ़ें- 

मोदी और अमित शाह की जोड़ी तोड़ने के लिए बीजेपी के ही लोग रच रहे हैं साजिश- पढ़िए खास रिपोर्ट

 

1000 साल पहले रूस में थे सभी हिन्दू, यह राजा नहीं होता तो भारत से भी बड़ा हिंदू राष्ट्र होता रुस

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*