Connect with us

इंडिया

एक एसिड अटैक सर्वाइवर का हाथ थाम इस शख़्स ने साबित कर दिया कि प्यार सूरत से नहीं सीरत से होता है

inspiring-story-this-acid-attack-survivor

जब दुनिया के सारे रास्ते बंद हो जाते हैं तो एक रास्ता हमारे लिए जरूर खुला रहता है. जब हम हर जगह से उम्मीद खो बैठते हैं तो कहीं से एक उम्मीद की एक नई किरण जरूर हमारे जीवन में जरूर पड़ती है. आज के इस आर्टिकल में एक एसिड अटैक लड़की की कहानी यह सब कुछ साबित कर देगी. इस एसिड अटैक लड़की की जिंदगी जहां डगमगा रही थी वही प्यार ने उसका हाथ थाम लिया. जहां इस लड़की के एकतरफा प्यार ने उसकी जिंदगी बर्बाद कर किया था वही एक इंसान ने उसका हाथ थाम कर उसकी पूरी ज़िंदगी को खुशियों से भर दिया.

इस तस्वीर को देखिए. इस तस्वीर को हुमन ऑफ इंडिया ने पेज पर शेयर किया है. हालांकि इन दोनों जोड़ियों के बारे में अभी ज्यादा कुछ मालूम नहीं हो पाया है.लेकिन हर कोई इन दोनों को खुशी-खुशी बधाइयां दे रहे हैं. लोग इस बात से खुश है कि एक मामूली इंसान ने एक एसिड अटैक लड़की के साथ शादी की है. ऐसे बहुत कम लोग होते हैं और जो अपनी हर खुशी किसी दूसरे पर लुटाना चाहते हैं.

यह बात आपके भी रोंगटे खड़े कर देता होगा कि जिस दिन उस पर तेजाब फेंका गया होगा. उस दौरान उस लड़की पर क्या बीती होगी. कितने दिन तक वह तड़पी होगी. उसकी जिंदगी का हर खूबसूरत पल एक क्षण में खत्म हो गया होगा. उसने सोच लिया होगा कि अब उसका जीवन नर्क बन चुका है. लेकिन वो कहते हैं ना कि इस दुनिया में ऐसे भी लोग मौजूद है, जो किसी के सूरत से ज्यादा सीरत से प्यार करते हैं. इसलिए इस लड़की के जीवन में जो राजकुमार आया.जो इसके सूरत से नहीं बल्कि सीरत से प्यार करता है. इस लड़के ने हाथ थाम कर एसिड अटैक लड़की को जीवन भर खुश रखने का वचन दिया. वाकई ऐसा कदम उठाने के लिए हिम्मत चाहिए होती है. वह दिल चाहिए होता है जो हर चीज को स्वीकार कर ले. इस लड़के ने साबित कर दिया.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारत में 85% एसिड अटैक के केस पाए गए हैं.आपको बता दें लक्ष्मी अग्रवाल, जो ख़ुद एक एसिड अटैक सर्वाइवर हैं. वो पिछले कुछ सालों से एसिड अटैक सर्वाइवर्स के की ज़िन्दगी को संवारने के लिए  छानव फाउंडेशन नाम का एक एनजीओ चला रही हैं.

inspiring-story-this-acid-attack-survivor

यह बहुत ही शर्मनाक बात है कि अगर कोई लड़की किसी लड़के को मना कर देती है तो वह उससे बर्बाद कर देता है. उसके ऊपर एसिड फेंक देता है. हर इंसान उन सारे एसिड अटैकर से पूछना चाहता है कि क्या तुम्हारे इस हरकत से तुम्हे जो चाहिए था वह मिल गया?

यह घिनौना हरकत करने का हक तुम्हें किसने दिया? किसी की जिंदगी बिगाड़ने से पहले अपनी जिंदगी का ख्याल जरूर रखना चाहिए. क्योंकि उस वक्त एक जिंदगी बर्बाद नहीं होगी. बर्बाद वो भी होंगा जिसने यह कदम उठाया.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in इंडिया