Connect with us

पॉलिटिक्स

इस चुनावी सर्वे को देख नरेंद्र मोदी और अमित शाह की हुई हालत खराब, बीजेपी में हड़कंप, राहुल गांधी गिराने वाले हैं मोदी की कमजोर सरकार

madhya pradesh assembly election 2018 survey

नरेंद्र मोदी और अमित शाह अपने सरकार के कामकाज को लेकर जगह-जगह रिपोर्ट कार्ड पेश कर रहे थे लेकिन जिस तरीके के ओपिनियन पोल अब सामने आ रहे हैं तो उसको देखकर नरेंद्र मोदी और अमित शाह की नींद खराब हो चुकी है.

एक तरफ जहां राजस्थान से सरकार निकलती हुई नजर आ रही है तो वहीं दूसरी तरफ मध्यप्रदेश में भी ऐसा दिख रहा है कि इस बार जनता बीजेपी को हरा कर एक नई सरकार अपने राज्य में बनाने वाले हैं और यह सर्वे मोदी और अमित शाह की नींद उड़ाए हुए हैं. तो आइए आपको बताते हैं एबीपी वोटर्स का सर्वे किस तरीके से बीजेपी और संघ के लिए इस समय है मुश्किल खड़ी कर रहा है-

madhya pradesh assembly election 2018 survey

मध्यप्रदेश में गिरने वाली है शिवराज सिंह चौहान की सरकार

जिस तरीके का सर्वे यह ओपिनियन पोल लेकर आया है तो उसके बाद साफ साफ नजर आ रहा है कि एक तरफ तो राजस्थान से बीजेपी की विदाई हो रही है और यहां पर कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनकर नजर आने वाली है तो वहीं दूसरी तरफ इस तरीके का भी नजारा सामने आ रहा है कि मध्य प्रदेश से भी बीजेपी की सरकार अपना बोरिया बिस्तर समेटते हुई नजर आ सकती है.

madhya pradesh assembly election 2018 survey

अगर बीजेपी की सरकार मध्यप्रदेश से बाहर आती है तो उसके लिए बहुत बड़ा नुकसान होगा. आपको बता दें कि इस तरीके के सर्वे सामने आ रहा  है कि इस बार मध्य प्रदेश चुनाव में कांग्रेस को 122 सीटें मिलने वाले हैं.

तो वहीं बीजेपी को 108 सीटें मिलने वाली हैं. 122 सीट जीतकर कांग्रेस अपने दम पर राज्य में सरकार बना लेगी और बीजेपी सत्ता से बाहर हो जाएगी।

madhya pradesh assembly election 2018 survey

शिवराज सिंह चौहान के कामकाज से जनता खुश नहीं है और जिस तरीके से शिवराज सिंह चौहान काम कर रहे हैं तो उसके बाद जनता इनके काम करने के स्टाइल पर भी अब ऊँगली उठाने लगे हैं.

मध्य प्रदेश विधानसभा में 230 सीटें हैं और 2013 के विधानसभा में बीजेपी को 165 सीटें मिली थी लेकिन इस बार बीजेपी मध्य प्रदेश में भी सरकार नहीं बनाती हुई नजर आ रही है. यही कारण है कि इस समय बीजेपी के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह की नींद उड़ी हुई है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in पॉलिटिक्स