Connect with us

इतिहास

नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने कांग्रेस को बोला था सरेआम चिल्लाकर सभी के सामने धोबी का कुत्ता

Subhash-Chandra-Bose-in-Germany

नेताजी सुभाष चंद्र बोस एक अलग तरह से देश की आजादी के लिए लड़ रहे थे. आपको बता दें कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस का तरीका और महात्मा गांधी का आजादी प्राप्त करने का तरीका अलग था. नेता जी उस समय की कांग्रेस से एकदम अलग चलकर आजादी प्राप्त करना चाहते थे. एक तरफ महात्मा गांधी अहिंसा के मार्ग पर चलते हुए आजादी प्राप्त करना चाहते थे तो वहीं नेताजी सुभाष चंद्र बोस का मानना था कि अहिंसा के दम पर अंग्रेजों को अगर आजादी देनी होती तो वह पहले ही दे चुके होते. अंग्रेज खुद तो हिंसा के दम पर दुनिया जीतने निकले हुए हैं और ऐसे में अहिंसा के दम पर वह कभी भी किसी मुल्क को आजाद करने के लिए राजी नहीं होंगे.

netaji-bose-with-mahatma-gandhi

यही कारण था कि लगातार महात्मा गांधी और नेताजी सुभाष चंद्र बोस के विचार भी अलग अलग हो रहे थे और महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस से भी दूरियां बनाने लगे थे. यहां तक कि ऐसा कई बार हुआ कि जवाहरलाल नेहरू कोलकाता में कांग्रेस की मीटिंग लेने पहुंचे और वहां पर अध्यक्ष इस नेताजी सुभाष चंद्र बोस को उस मीटिंग में बुलाया ही नहीं गया.

netaji-bose-with-mahatma-gandhi

नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने कांग्रेस को बोला था सरेआम सभी के सामने धोबी का कुत्ता

नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने एक बार कांग्रेस को कांग्रेस की मीटिंग में ही धोबी का कुत्ता बोला था. आपको अगर यकीन ना हो तो आपको जल्द से जल्द आलट बालाजी चैनल की बनी हुई सुभाष चंद्र बोस की रहस्मयी वेब सीरीज को देख लेना चाहिए. जिसके अंदर सुभाष चंद्र बोस कांग्रेस को धोबी का कुत्ता कहते हैं जो कि ना तो आजादी के लिए लड़ पा रही है और ना ही अंग्रेजों के साथ हो पा रही है.

नेताजी के अनुसार कांग्रेस अंग्रेजों की मदद से देश में चुनाव करा रही है और ऐसे में जब जीते हुए लोग सत्ता में होंगे तो अंग्रेजों का विरोध कभी नहीं हो पायेगा. अंग्रेजों के साथ खड़े होकर आजादी की लड़ाई नहीं लड़ी जा सकती है.

यही कारण था कि सुभाष चंद्र बोस का ऐसा मानना था कि कांग्रेस अब धोबी का कुत्ता बनकर रह गयी है जो ना घर की है और ना ही घाट की. नेताजी सुभाष चंद्र बोस से अंग्रेज बुरी तरह से घबरा गए थे और नेताजी को रास्ते से हटाना चाहते थे. महात्मा गांधी भी लगातार सुभाष चंद्र बोस से दूर रहने लगे थे.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in इतिहास