Connect with us

देखो भारत का सबसे अमीर भिखारी है ये आदमी, महीनेभर में भीख मांगकर कमाता है 75 से 80 हजार रुपैय महीना

Richest Beggars in India

Richest Beggars in India- आज के समय में बेरोजगारी से लोगों के पास काम नही रहा है, जिसकी वजह से पैसा कमाना बड़ा मुश्किल हो गया है. अगर काम मिल भी जाता है, तो कम तनख्वा पर ज्यादा काम करने को मिलता है, क्योकि काम करने वाले लोगो की संख्या ज्यादा है,जो कम पैसे में काम कर लेता है उसको ही काम दिया जाता है.

 इसलिए एक पढ़ा लिखा व्यक्ति ऑफिस में बैठ़ कर 15 या 20 हजार महीना पैसा कमा पाता है. अगर कोई बड़े पद पर होता है तो 30 सो 35 ज्यादा से ज्यादा कमा पाता है, लेकिन जब हम आपको बतायेंगे, किस तरह एक साधारण भिखारी एक महीनें में 75 हजार कमाता है. तो आप दंग रह जायेगें, क्योकि यह आश्चर्य की बात होगी की हमारे देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में एक भिखारी हर महीने कम से कम 75 हजार रुपये कमा रहा है.

Richest Beggars in India

आप पढ़ लिखकर सुट बूट पहनकर ऑफिस जाते है तब भी आप को रोज के 1000 हजार से ज्यादा नही मिल पाता है, लेकिन मुम्बई में एक भिखारी 2500 रूपये रोजाना के कमाता है.

Richest Beggars in India

आप ऑफिस जाते वक्त जिन भिखारियों को दया की दृष्टि से देखकर दयावान बन कर भीख देते है आज वही व्यक्ति आप से ज्यादा कमा लेता है. मुम्बई में रहने वाले भारत जैन का मुख्य कार्य भीख मांगना है.

Richest Beggars in India

जो रोज छत्रपति शिवाजी टर्मिनल या आजाद मैदान में आकर भिख मागता दिखाई देता है, भारत जैन के पास 80 लाख का एक फ्लैट जिसमें बीवी और दो बच्चो के साथ रहता है.

Richest Beggars in India

भारत अपने बच्चो को ऐसी परवरिश देते है, जैसी एक मुख्यमंत्री अपने बच्चो को देते है, और भांडुप में एक दुकान भी है, जिसका एक महींने का किराया लगभग 10 हजार रूपये आता है. और बैंक में लाखो रूपये की सेंविग्स के अलावा शेलपुरा में दो घर भी है. भारत जैन देश का सबसे अमीर भिखारी बन गया है.

 बड़े बुर्जगो की ये काहवत सटिक बैटती है कि भगवान के घर में देर है, लेकिन अंधेर नही है, भगवान की माया अपरम्पार है. जिस घर में लक्ष्मी आती है तो बिना किसी स्वार्थ के आती है आज आप नें देखा और सुन भी लिया, किस तरह एक महीनें में 75 हजार कमाये जाते है. (सोनम सैनी, डेमोक्रेटिक वोइस ऑफ़ इण्डिया)

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in