Connect with us

पॉलिटिक्स

इसलिए बसपा और समाजवादी गठबंधन की उत्तर प्रदेश में बनने वाली है सरकार, योगी आदित्यनाथ की हालत हुई खराब

SP-BSP gathbandhan

उत्तर प्रदेश में राजनीतिक तूफ़ान शुरू हो चुका है। अचानक ही अखिलेश यादव और मायावती का हाथ मिलाना उत्तर प्रदेश के राजनीति में बड़ा तूफ़ान खड़ा करता हुआ नजर आ रहा है। अनुमान नहीं लगाया था कि कांग्रेस को पीछे छोड़ते हुए अचानक ही समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी दोनों गठबंधन करती हुई नजर आएंगी। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों में समाजवादी पार्टी और कांग्रेस का गठबंधन बुरी तरीके से फ्लॉप होता हुआ नजर आया था।  बीजेपी ने उत्तर प्रदेश में अपनी सरकार बना ली थी लेकिन बहुजन समाजवादी पार्टी और समाजवादी पार्टी के गठबंधन को तोड़ना बीजेपी के लिए आसान नहीं होने वाला है।

आइये आपको बताते हैं कि ऐसा क्यों हम बोल रहे हैं कि उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सरकार को खतरा खड़ा हो रहा है और साथ ही साथ समाजवादी पार्टी और समाजवादी पार्टी किस तरीके से उत्तर प्रदेश में वापसी करते हुए नजर आ सकते हैं-

mayawati and akhilesh yadav

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में इस समय दलित मतदाता करीब 22% है। इसमें 14 परसेंट जाटव लोग शामिल हैं। समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी को यह वोट अब मिलकर मिलने वाले हैं। मतदाता समाजवादी पार्टी को वोट दे या फिर बहुजन पार्टी को एक ही जगह वोट जाने वाले हैं।

साथ ही साथ उत्तर प्रदेश में 19% तक मुसलमान है और यह भी कहीं ना कहीं एक तरफ जा सकता है। राज्य में 45% ओबीसी वोट है। कहीं ना कहीं यह भी इसी तरफ जा सकता है। 2014 के लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी को 22% बीएसपी को 20% मत पड़े थे अब यह आंकड़ा जोड़ दें तो 42 प्रतिशत आंकड़ा नजर आता है।

ऐसे में बोला जा सकता है कि बसपा और सपा का यह गठबंधन इस बार बीजेपी के लिए मुश्किलें खड़ी करता हुआ नजर आ सकता है। योगी आदित्यनाथ निश्चित रूप से इसी समस्या के चलते इन दिनों चिंता में होंगे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in पॉलिटिक्स