पेट में हो रहा था कई महीनों से दर्द, डाक्टर्स ने जब पेट फाड़ा तो जो नजर आया है उसको देखकर आपकी रूह भी काँप जाएगी

Gastrointestinal stromal tumors

Gastrointestinal stromal tumors– कई बार व्यक्ति की लापरवाही उसके स्वास्थ्य पर काफी बुरा प्रभाव डालती है. ऐसा ही एक केस दिल्ली के गंगा राम अस्पताल में सामने आया है. राजस्थान के रहने वाले एक साधारण किसान के पेट में पीछे 6 महीने सिर दर्द हो रहा था.

किसान हर बार इस दर्द को आम गैस का दर्द समझ कर नजर अंदाज कर देता था. उसको लगता था कि शायद उसको बनने वाली गैस की समस्या यह दर्द उत्पन्न कर रही है इसीलिए वह इस गैस की समस्या को महत्वपूर्ण नहीं समझ रहा था और छोटी मोटी दवा लेकर लगातार गैस को सही करने की कोशिश कर रहा था.

Gastrointestinal stromal tumors

इस किसान को भी नहीं पता था कि अब वह कितनी मुश्किल में फंसने वाला है और उसके पेट में होने वाला दर्द कितना बड़ा सर दर्द बनने वाला है.

जब वह दिल्ली आए तो दिल्ली के सर गंगा राम अस्पताल में उसका इलाज चालू हुआ. डॉक्टर्स की टीम ने जब जाँच की तो उनके पैरों से जमीन निकल गई क्योंकि उनको इस किसान के पेट में ट्यूमर नजर आया.

Gastrointestinal stromal tumors

ट्यूमर का आकार खतरनाक था और लगभग लगभग उस किसान के पूरे पेट को यह कवर कर चुका था. पहली नजर में ही डॉक्टर्स समझ गए कि यह 17 किलो का ट्यूमर है. 17 किलो का ट्यूमर जो उस किसान के पेट में लगातार पल रहा था और इससे उसके पेट में उसकी आतें और किडनी भी अपनी जगह बदल चुकी थी.

Gastrointestinal stromal tumors

धीरे-धीरे यह ट्यूमर किसान के लिए मौत का कारण बनता जा रहा था. डॉक्टर्स की टीम ने बिना किसी देरी के ही इस किसान का ओपरेशन करने का निर्णय लिया.

Gastrointestinal stromal tumors

डॉक्टर्स जानते थे कि अगर इस किसान का इलाज मात्र 1 या 2 महीने और नहीं किया गया तो निश्चित रुप से ट्यूमर किसान का जान ले लेगा.

यही कारण है कि सर गंगा राम अस्पताल के डॉक्टर ने इस केस को काफी महत्वपूर्ण माना और इंटरनेशनल लेबल पर इसका इलाज शुरू किया.

गैस्ट्रो सर्जन डॉक्टर धीर ने इस पूरे किसको अपनी निगरानी में रखा और उन्होंने किसान का पेट फाड़ और 10 घंटे तक लगातार सर्जरी कर 45 सेंटीमीटर का पेट में ट्यूमर बाहर निकाला है और अब इस केस को इंटरनेशनल स्टडीज के लिए भेजा जा रहा है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*