Connect with us

खबरदार- जिस घर में होती है यह तस्वीर वहां आती है सिर्फ और सिर्फ बर्बादी, लोग घर से निकालकर फेंक रहे हैं इस पवित्र तस्वीर को

द क्राईंग ब्‍वॉय पेंटिंग

आज हम आपको एक ऐसी तस्वीर की कहानी बताने वाले हैं जो विश्व की सबसे अधिक बदनाम और शापित पेंटिंग के लिए जानी जा रही है. वैसे तो यह तस्वीर आज अधिकतर जगह से गायब है लेकिन कई बार जाने अनजाने में आज भी इस तरह की तस्वीर हमारे घर में आ जाती हैं लेकिन कई वास्तु के जुड़े हुए लोग भी सी तस्वीर को अपशगुनी बता चुके हैं.

वैसे हम किसी ठोस सबूत के आधार पर तो यह नहीं बोल रहे हैं कि यह पेंटिंग शापित है लेकिन ऐसी कई खबरें आई हैं जिस घर में यह तस्वीर होती है वहां पर आग लग जाती है. तो आइये आपको अब हम इस तस्वीर को दिखाते हैं जो शापित बताई जा रही है- द क्राईंग ब्‍वॉय पेंटिंग

द क्राईंग ब्‍वॉय पेंटिंग

रोते हुए इस बच्चे की तस्वीर को द क्राईंग ब्‍वॉय नाम से जाना जाता है. इस शापित तस्वीर को 1985 में ब्रागोलिन ने बनाया था. ऐसा नहीं है कि इस पेंटर ने इसी एक तस्वीर को बनाया था लेकिन आपको बता दें कि इस रोते हुए बच्चे की तस्वीर की कई सीरिज बनाई गयी थीं. वहीं बाजार में इस बच्चे की कुछ 50 हजार प्रतियों को उतारा गया था.

द क्राईंग ब्‍वॉय पेंटिंग

लेकिन इस तस्वीर को जिस घर में लगाया गया तो वहां कुछ ना कुछ इतना बुरा हुआ कि यह तस्वीर शापित घोषित की गयी थी. जिन घरों में उस समय आग लगी वहां इस रोते बच्चे की तस्वीर को देखा गया था. आग बुझाने वाले लोगों ने गौर किया था कि उस समय जिन घरों में आग लग रही थी वहां पर अधिकतर घरों में यह तस्वीर थी.

द क्राईंग ब्‍वॉय पेंटिंग

द क्राईंग ब्‍वॉय पेंटिंग

नहीं जलती थी ये मनहूस पेंटिंग

आज भी इस पेंटिंग का रहस्य बरकरार है कि आखिर यह कैसे हुआ कि जिन घरों में आग लग रही थी वहां पर यह पेंटिंग बिना जले हुए बची हुई थी. घर का सारा सामान जल जाया करता था लेकिन कभी भी इस रोते हुए बच्चे की पेंटिंग नहीं जलती थी.

द क्राईंग ब्‍वॉय पेंटिंग

इस तरह की खबर के बाद लोगों ने इस पेंटिंग को एक त्यौहार के मौके पर घरों से बाहर जला दिया था और इसके साथ ही रोते हुए बच्चे की पेंटिंग का रहस्य भी खत्म हो गया था. लेकिन आज भी ऐसा बोला जाता है कि इस तरह की रोते बच्चे की तस्वीर को घर में नहीं लगाना चाहिए. अगर आपके पास या आपके घर में रोते बच्चे की कोई तस्वीर हो तो उसे घर से बाहर जरुर निकाल दें.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in