10 तस्वीरें इस देश के पास है नकली सूरज, पिछले 100 सालों का सबसे बड़ा आविष्कार है यह नकली सूरज

इस देश के पास है नकली सूरज 

इस देश के पास है नकली सूरज – विज्ञान बहुत तरक्की कर रहा हैं. दुनियाभर के वैज्ञानिक रोज कुछ न कुछ खोज करते रहते हैं लेकिन हमारी प्रकृति में आज भी ऐसे राज छुपे हैं जिसे खोजपाना आसान नहीं है. प्रकृति की हर चीज रहस्यमयी हैं. फिर चाहे पृथ्वी का जन्म हो या फिर सूरज और चंद्रमा.

बिना रात के आप धरती की कल्पना नहीं कर सकते और न ही बिना सूरज के. लेकिन जर्मनी ने एक सूरज तैयार कर दिया हैं. यह कृत्रिम सूरज लोगों की मर्जी से रोशनी देगा और उनकी ही मर्जी से रौशनी बंद कर देगा. आइए इसकी खास बातें आपको बताते हैं. इस देश के पास है नकली सूरज 

इस देश के पास है नकली सूरज मात्र 149 रिफ्लेक्टर लैम्पों का यह ढ़ाचा सूर्य से ज्यादा पावरफुल हैं. आपको हंसी आएगी लेकिन इसकी गर्मी अपने सामने आने वाली हर चीज को राख में मिला देती हैं.

इस देश के पास है नकली सूरज यह सूरज जर्मन शहर यूलिष में स्थित हैं. इसे दुनिया का कृतिम सूर्य कहा जाता हैं.

इस देश के पास है नकली सूरज इसमें से निकलने वाली रोशनी का तापमान तीन हजार डिग्री सेल्सियस हैं. असली सूरज से 10 गुणा ज्यादा विकिरण इससे निकलते हैं.

इस देश के पास है नकली सूरज सभी 149 रिफ्लेक्टरों को चालू करके एक गेंद के बराबर के आकार पर फोकस किया जाता हैं जिससे तीन हजार तापमान की गर्मी पैदा होती हैं.

इस देश के पास है नकली सूरज 

दुनिया में ऐसी कोई धातु नहीं जो इस तापमान के आगे टिक पाए. वैज्ञानिक ऐसे धातु की खोज कर रहे हैं जो इसका मुकाबला कर सके.

इस देश के पास है नकली सूरज असली सूरज की रौशनी बदलती रहती हैं लेकिन इसकी रौशनी फिक्स रहती हैं.

इस देश के पास है नकली सूरज इसके तापमान में मानव चाहे तो अपने अनुसार बदलाव कर सकता है.

इस देश के पास है नकली सूरज वैज्ञानिक इसके रासायनों और प्राकृतिक तत्वों पर असर को लेकर शोध कर रहे हैं. इसमें अभी वक्त लगेगा. यह कामयाब रहा तो अबतक की सबसे बड़ी उपलबधी होगी.

इस देश के पास है नकली सूरज 

पृथ्वी पर मौजूद धातु ज्यादा से ज्यादा दो हजार तक ही तापमान बर्दास्त कर सकते हैं.

इस देश के पास है नकली सूरज पानी के भाप को हाइड्रोजन में बदलने के लिए यह बहुत कामयाब हो सकता हैं. पानी का भाप 1400 डिग्री पर हाइड्रोजन और ऑक्सीजन में टूटने लगता हैं.

 

इस पर और शोध हो रहा हैं. अगर यह कामयाब रहा तो सूरज से होने वाले कई कामों को यह आसान कर देगा. दुनिया में जब असली सूरज नहीं होगा तो इसी से काम चलाया जायेगा.

 

यह भी पढ़ें- दुनिया का सबसे जहरीला इन्सान, इसके काटने से कोबरा भी पल भर में तड़प-तड़प कर मर जाता है

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*