Connect with us

विज्ञान

कभी आपने सोचा है कि आसमान नीला क्यों दिखाई देता है, इस सवाल का सही जवाब यहाँ पढ़ें

sky is blue

आकाश नीला दिखाई क्यों देता है, आसमान नीला क्यों दिखाई देता है– प्रकृति और उसकी शक्ति को समझना आसान तो नहीं लेकिन फिर भी इच्छा होती है कि प्रकृति से जुड़ी चीजों को इसे समझा जाए और हर एक छोटी से छोटी जानकारी आप तक पहुंचाई जाए। आज इससे ही जुड़े विषय के बारे में आपको बताएंगे। जिसे जानकर आपको प्रकृति से जुड़ी एक और जानकारी मिलेगी। कहा जाता है कि धरती हमारी माता है और आकाश हमारे पिता। यह बात 100 प्रतिशत सही है कि आकाश और धरती से हमारा नाता जन्मो जन्मांतर का है। इन सब में यदि कोई हमें आश्चर्यचकित करता है तो वो है आकाश। जहां आसमान को देखकर सुकून मिलता है तो दूसरी ओर लोगों को आश्चर्य भी होता है, कि आकाश नीला क्यों दिखाई देता है। अक्सर यह सवाल हमारे दिमाग में आता हैं कि आकाश नीला क्यों दिखाई देता है। आज हम आपको आकाश के नीले होने की वजह बता रहे हैं।

sky is blue

आकाश किसके कारण नीला दिखाई देता है

आकाश के नीले होने की वजह जानने के लिए हमें थोड़ा वैज्ञानिक ज्ञान को समझना होगा यानी विज्ञान से संबंधित कुछ बातें को जानना जरूरी है। क्योंकि हर किसी तथ्य के पीछे विज्ञान छिपा होता है। हमें विज्ञान को एकत्रित करके अपने सवालों के जवाब ढूंढने पड़ते हैं। आकाश का सीधा संबंध प्रकाश के प्रकीर्णन से है, सब जानते होंगे कि प्रकाश में सात प्रकार के रंग होते हैं। जिसमें शामिल है- बैंगनी, नील, नीला, हरा, पीला, नारंगी और लाल।. यह सभी रंग प्रकाश के प्रकीर्णन के रंग है। दरअसल जहां से प्रकाश होकर गुजरता है, वहां पर धूल आदि के कण वायुमंडल में उपस्थित होते हैं। और वायुमंडल से गुजरने वाला प्रकाश फैल जाता है। इसी फैले हुए प्रकाश को प्रकाश का प्रकीर्णन कहते हैं… अब हम इसे सीधा आकाश से जोड़ते हैं। दरअसल, जब आकाश से प्रकाश नीचे आता है तो मिट्टी धूल आदि के कणों में मिलकर प्रकाश फैल जाता है और चुंकि, नीले रंग का प्रकीर्णन सबसे तेज होता है.. तो यहीं आकाश को नीला कर देता है। नीले रंग की प्रवृत्ति सबसे ज्यादा होने के कारण प्रकाश का यह प्रकीर्णन आकाश को नीले रंग में परिवर्तित करता है।

सवाल आकाश का रंग नीला क्यों दिखाई देता है

तो दोस्तों यही कारण था कि आकाश नीला दिखाई देता है। आकाश की खूबसूरती इसके रंगों में छिपी होती है। कुछ लोगों को आकाश की तरफ देखना बड़ा अच्छा लगता है, क्योंकि बादलों की खूबसूरती और इसके नीले रंग का प्रकीर्णन मन को मोहने वाला होता है। नीले रंग के तेज प्रकीर्णन के कारण वायुमंडल में उपस्थित विभिन्न गैस मिट्टी धूल आदि के कण प्रकाश से टकराकर स्पेक्टर में परिवर्तित हो जाते हैं। जिसके कारण सबसे ज्यादा प्रकीर्णन वाले रंग अपने प्रभाव को चारों तरफ फैला देते हैं।

यही कारण है कि नीला रंग प्रभावी होता है और इसी कारण से आकाश नीले रंग में दिखाई देता है। चलिए तो हमने आपकी इस शंका को दूर कर दिया कि किन कारणों से आकाश नीला दिखाई देता है। वही ज्यादा प्रकाश और दिन में हम आकाश की तरफ देख भी नहीं पाते लेकिन जैसे ही मौसम थोड़ा पलटता है तो आकाश की खूबसूरती सब को भाने लगती हैं… हम उम्मीद करते हैं क्या आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई होगी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in विज्ञान