Connect with us

इतिहास

ऐसा था मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का बचपन, 22 साल की उम्र में छोड़ दिया था अपना घर

yogi-adithynath

 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का बचपन : शिक्षा,सेवा, संस्कार हर व्यक्ति के जीवन में एक अहम भूमिका अदा करता है.यही आगे चलकर व्यक्ति को उसके जीवन में नई पहचान दिलाता है.संस्कार जीवन का वह अनमोल चीज़ है जो बाहर की बुरी चीजों से लड़ना, सच्चाई के साथ खड़ा होना, दूसरों की तकलीफ को समझना,बड़ों का आदर करना बताता है.वैसे तो छोटे उम्र से ही बच्चों को संस्कार दिया जाता है ताकि वह अपने जीवन में बड़ी से बड़ी कामयाबी हासिल कर सके.कुछ बच्चे तो छोटी उम्र में ही कामयाब हो जाते हैं और कुछ बच्चे होकर भी बड़ो जैसी समझदारी रखते हैं. आज ऐसे ही एक उदाहरण हम आपके सामने लाए हैं.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का बचपन:

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को देखें तो ऐसा लगता है शिक्षा सेवा संस्कार और राष्ट्रीयता का वह समूह है.आज भी वह जब लोगों से बातचीत करते हैं तो संस्कार और राष्ट्रीयता के बारे में जरूर कहते हैं. यह सारी बातें सुनकर लोगों के मन में एक सवाल उत्पन्न होता है कि आखिर योगी जी अपने बचपन में कैसे रहे होंगे? आज हम इस आर्टिकल से आपको उनके बचपन का दृश्य दिखाएगे जिससे आपको मालूम हो जाएगा कि योगी आदित्यनाथ का बचपन कैसा था और उनका बचपन में कैसा स्वभाव था?

योगी आदित्यनाथ के माता पिता का नाम- इनके पिता का नाम आनन्द सिंह बिष्ट है जो एक फॉरेस्ट रेंजर थे, तथा इनकी मां का नाम सावित्री देवी है

जानकर हैरानी होगी कि संस्कार की बात करने वाले योगी आदित्यनाथ 22 साल की उम्र में ही अपना घर छोड़ दिया था. लेकिन बचपन में योगी जी ने जिस गुरु से शिक्षा ली थी वह योगी जी को प्यार से अजेय बुलाते थें. नौवीं और दसवीं कक्षा में नागेंद्र नाथ वाजपेई से गणित सीख कर वह कॉलेज के श्रेष्ठ विद्यार्थी बन गए. वैसे तो अब आदित्यनाथ जी शुरू से ही सबके प्रिय रहे हैं लेकिन इनकी लोकप्रियता और ज्यादा तब बढ़ गई जब यह मुख्यमंत्री के रूप में चुने गए. बता दें योगी आदित्यनाथ के अध्यापक ने बताया कि योगी आदित्यनाथ गणित के ज्ञानी है.1987 में योगी जी ने स्कूल में दाखिला लिया था.वह पढ़ने में बहुत तेज थे. कक्षा नौवीं में गणित की परीक्षा में कुल 100 नंबर में उन्होंने 95 नंबर प्राप्त किया था. यहां तक की वह दसवीं की परीक्षा अच्छे नंबर लाकर पास किया था.इसके अलावा योगी आदित्यनाथ को साफ सफाई बेहद पसंद है. शिक्षक और उनके सहपाठी का यह कहना है कि योगी आदित्यनाथ को गंदगी से कोसों दूर रहते हैं. वह स्कूल में जरा सा भी गंदगी देखते थे तो खुद ही झाड़ू लेकर साफ सफाई करना शुरू कर देते थे. यहां तक कि सिगरेट,बीड़ी तंबाकू जैसी चीजों से बहुत दूर रहते थे. उन्होंने अपने जीवन में इन सारी चीजों को हाथ तक नहीं लगाया है.

इन सारी चीजों से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि योगी आदित्यनाथ का स्वभाव और संस्कार कैसा था. जितना साफ उनका मन है उतना ही वह आस-पास रखना चाहते हैं और देखना चाहते हैं.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in इतिहास