अलाउद्दीन खिलजी के जीवन से जुड़े ऐसे रहस्य जान के सोच में पड़ जायेंगे आप, समलैंगिक था और लड़कों में करता था मजे - Hindi News | Latest News | opinion | viral stories from India | DVI News
Connect with us
https://www.dvinews.com/wp-content/uploads/2019/04/vote.jpg

इतिहास

अलाउद्दीन खिलजी के जीवन से जुड़े ऐसे रहस्य जान के सोच में पड़ जायेंगे आप, समलैंगिक था और लड़कों में करता था मजे

Published

on

history-and-facts-about-alauddin-khilji-life

अलाउद्दीन खिलजी एक ऐसा शख्सियत जिसने जिद्दीपन और अहंकार को अपना शस्त्र बना लिया था. वह इतना जिद्दी था कि कोई भी चीज इसे पसंद आ जाती तो उसे अपना बनाने और हासिल करने के लिए लग जाता था. वह अपने आप को विश्व का दूसरा सिकंदर कहता था .

history-and-facts-about-alauddin-khilji-life

अलाउद्दीन खिलजी दिल्ली का राजा था. इसने अपने सगे चाचा और ससुर जलाल-उद-दीन खिलजी को मारकर दिल्ली  का राजा बना था. यह खिलजी वंश का दूसरा शासक था जिसने 20 साल तक शासन की थी 1269 से 1316 तक. अपने अपने राज्य का विस्तार करने के लिए कई सारी जगह पर कब्जा किया था जैसे गुजरात, मेवाड़, मालवा ,जालोर मबार. अलाउद्दीन खिलजी अपने वंश का सबसे शक्तिशाली शासक था इसलिए इसे सिकंदर- ए -शाही  उपाधि भी दी गई.

history-and-facts-about-alauddin-khilji-life

अलाउद्दीन खिलजी इतिहास में सबसे ज्यादा इसलिए प्रसिद्ध है क्योंकि मंगोल आक्रमणकारियों को कई बार मात दी. सही मायने में बोला जाए तो वह एक बहुत कठोर शासक था इसने अपने आप को ही पैगंबर घोषित कर दिया. पुरुष होने के बावजूद उनको उनका वह पुरुष की ओर आकर्षित होते थे जब महिलाओं होने के बावजूद उनका आकर्षण महिलाओं की ओर था. खिलजी के अंदर किसी भी तरह का भावना  नहीं था था तो बस एक लोभ.

history-and-facts-about-alauddin-khilji-life

लोग ऐसा कहते है कि इन्होंने 30000 महिलाओं के पतियों को को मारा भी इसके साथ उन महिलाओं को अपना रखैल बनाकर के भी रखा. रानी पद्मावती को भी अलाउद्दीन खिलजी अपना रखैल बनाकर रखना चाहते थे जिसके बचाओ में पद्मावती ने जौहर करके अपनी रक्षा की.

अलाउद्दीन खिलजी का जीत के पीछे मलिक काफूर का हाथ था जो कि खिलजी की सेना का सेनापति था. यह माना जाता है कि अलाउद्दीन खिलजी की मौत मलिक काफूर के वजह से हुआ था क्योंकि इसने ही उसको मारा था.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *