बाबा रामदेव का जीवन परिचय | Baba Ramdev Biography in hindi | पढ़िए राम किशन के बाबा रामदेव बनने के पीछे की कहानी - Hindi News | Latest News | opinion | viral stories from India | DVI News
Connect with us
https://www.dvinews.com/wp-content/uploads/2019/04/vote.jpg

खास लोग

बाबा रामदेव का जीवन परिचय | Baba Ramdev Biography in hindi | पढ़िए राम किशन के बाबा रामदेव बनने के पीछे की कहानी

Published

on

Baba Ramdev Biography in hindi

बाबा रामदेव का जीवन परिचय, Baba Ramdev Biography in hindi जानिए कैसे एक साधारण सा इंसान जो कभी साईकिल से यात्रा किया करता था वो अचानक ही आज करोड़ों के साम्राज्य का सबसे बड़ा मुखिया बन गया है.

पूरा नाम – रामकिशन रामनिवास यादव
जन्म     – 26 दिसम्बर 1965
जन्मस्थान – सैयद अलीपुर, जिला-महेन्द्रगढ़, हरियाणा
पिता     – रामनिवास यादव
माता     – गुलाबो देवी

 

बाबा रामदेव का जीवन परिचय | Baba Ramdev Biography in hindi

योग गुरु बाबा रामदेव को आज भारत के अधिकांश लोग जानते हैं. लेकिन वर रामकिशन से बाबा रामदेव कैसे बने यह शायद ही लोग जानते होंगे. कठिन परिश्रम और आत्मविश्वास के कारण आज रामदेव पूरे भारत में छाए हुए हैं. इनके जीवन की परिस्थितियां भी अधिक कठिन थी लेकिन धैर्य और प्रयास के कारण आज यह राम किशन से बाबा रामदेव बन गए. तो चलिए जानते हैं बाबा रामदेव का सफर.

बाबा रामदेव का जीवन परिचय

बाबा रामदेव का गाँव | Village of Baba Ramdev

हरियाणा के जिला महेंद्रगढ़ के हजारीबाग सैयद अलीपुर गांव में रामनिवास यादव और गुलाबो देवी के घर एक बेटा हुआ जिसका नाम उन्होंने रामकिशन रखा. रामकिशन पांचवी के पढ़ाई के बाद सबाजपुर के सरकारी स्कूल में चला गया.8 साल की उम्र में स्कूल से लौटते वक्त रामकिशन लड़खड़ाते हुए जमीन पर गिर गया. स्कूल के दोस्तों ने समझा के उसके ऊपर कोई भूत आया है. लेकिन डॉक्टर से दिखाने के बाद जब पता चला कि रामकिशन को लकवा मारा है. लकवा मारने की वजह से उनका पूरा बाया हिस्सा बेजान पड़ गया. खेल के मैदान को छोड़ते हुए रामकिशन ने किताबों को अपना लिया. एक दिन किताब के पहले पन्ने में रामकिशन ने योग के बारे में पड़ा. वहां से उनको पता चला कि योग करने से मन और शरीर दोनों पर काबू कर सकते हैं. इस तरह से उन्होंने योग करना शुरू कर दिया.

Baba Ramdev Himalya Yatra | बाबा रामदेव की हिमालय यात्रा

फिर अचानक अपने घर में बिना बताए कानपुर के एक गुरुकुल में दाखिला करवा लिया. जहां पर उनकी मुलाकात बालकृष्ण से हुई. बता दे बालकृष्ण एक गार्ड का बेटा है. छह भाइयों के बीच बालकृष्ण जड़ी बूटी में बहुत रुचि रखते थे. वहीं अध्यात्म के सवालों में रामकिशन की रुचि जुड़ी थी. उस आश्रम को छोड़कर रामकिशन जींद जिले कलवा आश्रम में गए जहां पर वह आचार्य बलदेव से मिले. आचार्य बलदेव ने रामकिशन को एक सलाह दी. उन्होंने कहा राम और कृष्ण दोनों ही महान है. लेकिन दोनों की प्रकृति और प्रवृत्ति में अंतर है. उन्होंने दोनों में से किसी एक को चुनने को कहा. फिर रामकिशन ने राम का पुरुषोत्तम वाला रूप को अपनाया और अपना नाम राम रखा. उसके बाद आचार्य बलदेव ने उनके नाम में देव जोड़ा. जिसके बाद वह रामकिशन से व रामदेव बने. कुछ समय बाद रामदेव हिमालय के गंगोत्री में चले गए. साल 1993 में जब वह हिमालय से उतरे तो हरिद्वार में जा बसे. हरिद्वार में लोगों को योग सिखाने लगे. जब यह बात एक कारोबारी को पता चला तो उसने रामदेव बाबा को हरिद्वार से गुजरात ले गए. वहां पर उस व्यक्ति ने रामदेव बाबा के लिए एक शिविर आयोजित कराया. वह पहला शिविर था जहां दो हजार से भी ज्यादा लोग जुड़ें.

बाबा रामदेव का जीवन परिचय

Baba Ramdev anulom vilom kapalbhati | बाबा रामदेव के अनुलोम विलोम और कपालभाति

उसके बाद बाबा रामदेव का अनुलोम विलोम और कपालभाति पूरे देश भर में लोगों ने अपनाया. जिसके बाद लोगों ने अपने स्वास्थ्य पर सुधार देखा. कुछ समय बाद रामदेव बाबा की अपनी एक कंपनी खुली पतंजलि, जहां पर बाल कृष्ण और रामदेव दोनों की जड़ी बूटी से बनी प्रोडक्ट्स बिकने लगी. रामदेव बाबा की जिंदगी में सबसे बड़ा उन्नति तब आया जब साल 2001 में संस्कार चैनल ने उनके 22 मिनट का शो लोगों को दिखाते थे. कुछ समय बाद रामदेव ने वह चैनल छोड़ आस्था चैनल पर काम किया. फिर धीरे-धीरे न्यूज़ चैनल भी रामदेव बाबा का शो लोगों तक पहुंचाने लगे. और अब आप देख सकते हैं कि कुल 24 घंटे में  18 घंटे बाबा रामदेव का विज्ञापन दिखाया जाता है. आज रामदेव बाबा इतने सफल इसलिए है क्योंकि उन्होंने सीधी सरल युक्त जनता से संवाद किया. उन्होंने जनता को कोई कठिन योग करने के लिए नहीं बोला बल्कि कुछ समय का अलोम विलोम और कपालभाति ही लोगों के स्वास्थ्य में सुधार लाया.

आज आप देख सकते हैं कि किस तरह रामदेव बाबा के हर प्रोडक्ट्स लोग बहुत चाव से खरीदते हैं. किसी और प्रोडक्ट पर भरोसा करने से पहले लोग रामदेव बाबा की पतंजलि प्रोडक्ट्स पर भरोसा करते हैं.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *