वैज्ञानिकों ने मक्खी जैसा रोबोट बनाया, देश पर जहरीली गैसों के आक्रमण को रोकने में मददगार होगा - Hindi News | Latest News | opinion | viral stories from India | DVI News
Connect with us
https://www.dvinews.com/wp-content/uploads/2019/04/vote.jpg

टेक्नोलॉजी

वैज्ञानिकों ने मक्खी जैसा रोबोट बनाया, देश पर जहरीली गैसों के आक्रमण को रोकने में मददगार होगा

Published

on

new robot technology 2018

वैज्ञानिकों के द्वारा बनाई गई चीजें, आज हम इस्तेमाल करते हैं. उनके द्वारा बनाया गया हर चीज हमारे आम जिंदगी को आसान बनाता है. वैसे ही हाल में ही वेबसाइट के द्वारा पता चला है कि अमेरिकी वैज्ञानिकों ने एक कीट के आकार का ऐसा रोबोट बनाया है. जो प्राकृतिक आपदा वाले क्षेत्रों में गैस लीक के कारण होने वाली मौतों को रोक सकता है. इसके साथ ही उस कीट के जरिए फसलों की देखरेख हो सकती है. आपको बता दें इसे रोबोफ्लाय का नाम दिया गया है.

robot technology

वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने अपने कई साल लगा दिया इस किट को बनाने के लिए. शोधकर्ताओं के अनुसार इस वायरलेस रोबोट में सर्किट लगा है जो लेजर एनर्जी को बिजली में बदलता है. इसकी मदद से पंख ऑपरेट होते हैं जिससे यह उड़ पाता है. हालांकि इससे पहले भी रोबोट बनाई गई थी लेकिन पंख भारी होने के कारण उड़ने में दिक्कत आ रही थी. इसके बाद वैज्ञानिकों ने उस में कुछ बदलाव किए और कीट का वजन कम हो गया.

हैरानी वाली बात यह है कि सर्किट 240 वोल्ट बिजली जनरेट करता है और इसी बिजली की मदद से वह रोबोट उड़ पाता है.

बता दें इसका इस्तेमाल फसलों का सर्वे और प्राकृतिक आपदा के दौरान जहरीली गैसों की जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जाएगा. इसके अलावा इसका इस्तेमाल ऐसी जगहों से जानकारी लेने में किया जाएगा जहां बड़े ड्रोन नहीं जा सकते.

वैज्ञानिकों का मानना है कि इस किट के आकार वाले रोबोट में लेजर बीम मौजूद है जो बिजली पैदा करती है.जिससे उसे उड़ने में मदद मिलती है. लेकिन यह काफी नहीं होती है. इसलिए इसमें एक ऐसा सर्किट भी लगाया गया है जो 240 वोल्ट तक बिजली जनरेट करने में साथ देता है.

कीट जैसा रोबोट केपंखों को कंट्रोल करने के लिए माइक्रोकंट्रोलर का इस्तेमाल किया है. जिसे सर्किट से जोड़ा गया है.ये माइक्रोकंट्रोलर रोबोट के दिमाग की तरह काम करता है.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *